नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

January 31, 2009

समानता तभी सम्भव हैं जब हम जितना लेते हैं उतना देने की क्षमता रखते हो ।

एक अनाम ब्लॉगर ने मंगलोर मे हुए प्रकरण पर आयी नारी ब्लॉग की पोस्ट पर लिखा था
Anonymous said...हँसी आ रही है मुझे नारी ब्लॉग वालों पर कहिये क्यों? एक तो सारे नारी ब्लॉग पुरूष और महिला दोनों के समान होने के नारे बुलंद करते हैं महिलाओं के साथ अत्याचार हुआ है, वो गाली क्यूँ न देन, वो शर्ट उतार के क्यूँ न घुमे दूसरी तरफ़ महिला बस में पुरूष सफर कर रहे होते हैं तो वहां महिला होना याद आ जाता है???????? क्यूँ जब भेद भाव नही तो स्पेशल स्टेटस क्यूँ चाहिए???? रोज पुरूष लात खाते रहते हैं, कोई कुछ नही बोलता, आदत हो गई है एक दिन लड़कियों को लात खाते देख लिया तो तालिबान, श्रीराम सब याद आ गए????? स्त्री का सम्मान याद आ गया?????? बराबरी का हक़ भी चाहिए और स्पेशल स्टेटस भी??? दोगलापन क्यूँ???? या तो स्त्री के पीटने को पुरूष के पीटने जितना नोर्मल लीजिये, या समान होने का ढोंग करना बंद कीजिये? इससे यही प्रतीत होता है कि बाकी नारीवादियों कि तरह आप भी दूकान चला रही हैं स्त्री कि समस्या से कोई लेना देना नही है स्त्री त्रस्त रहे तभी आपकी दूकान चलेगी आप उन नेताओं कि तरह हैं जो गरीबों की बात तो करते हैं लेकिन यह भी चाहते हैं की गरीब गरीब बना रहेमुझे पता है, मेरे इस कमेन्ट पर कोई "जागरूक" "नारीवादी" ब्लॉगर मेरी धज्जियाँ उडाएगी/आ परवाह नहीं प्यारी कोमल टिप्पणियों देने वालों तक बात पहुचनी थी सो पहुच गई रहे आप लोग, आप लोग तो सुधरेंगे नहीं स्त्री को डराकर उसका समर्थन हासिल करते रहेंJanuary 28, 2009 8:25 PM

और इस कमेन्ट को नारी ब्लॉग पर पोस्ट बना कर डाल दिया गया क्युकी इस कमेन्ट मे तमाम वो सवाल थे जिनको आज के समय मे उठाना बहुत जरुरी हैं । कमेन्ट जरुर मंगलोर प्रकरण से जुडा था और उस सन्दर्भ मे ग़लत भी था पर अगर इस कमेन्ट को केवल मंगलोर प्रकरण के साथ जोड़ कर ना देखा जाये तो इसके अंदर बहुत ही सही बात कही गयी हैं । उस पर चर्चा जरुरी हैं और करेगे भी पर खुशी हैं की इस कमेन्ट के जवाब मे बहुत से कमेन्ट आए जिनको आप यहाँ देख सकते हैं । एक अनाम ब्लॉगर ने बहुत ही सटीक जवाब भी दिया हैं ऊपर आए कमेन्ट का ।
Anonymous said...
न कहते हुए भी मुझे अनामी की कुछ बात पर हामी भरनी पड़ रही है। कब तक स्त्री कोमल बनी रहेगी और समाज से संत्वनाएँ मांगती रहएगी अपने अत्याचारों के लिए ?? क्यों उसे अपनी आवाज उठाने के लिए किसी का सहारा चाहिए ?? क्यों उसे अपनी बात रखने के लिए मंच चाहिए ?? और वो अभी तक क्यों अत्याचार सह रही है ??अब ये बातें एक तरफ़, और अब हम बात करते हैं मंगलोर की - अनामी ने कहा "आदत हो गई है एक दिन लड़कियों को लात खाते देख लिया तो तालिबान, श्रीराम सब याद आ गए????? स्त्री का सम्मान याद आ गया?????? बराबरी का हक़ भी चाहिए और स्पेशल स्टेटस भी??? दोगलापन क्यूँ????" अब आप मुझे बताइए - आजतक क्यों pub जाने वाले पुरुषों की पिटाई नहीं हुई ??क्या पुरूष pub जायेंगे तो ठीक है लेकिन महिला जाएँगी तो उनका निरादार किया जाएगा ??मुझे ये बताइए क्यों सिर्फ़ रुढिवादी पुरूष ही भारतीय सभ्यता को बचाने का ढोंग करते हैं?और एक बात, क्या इस तरह से महिलाओं की पिटाई करना किस सभ्यता का अंग हैं??
January 29, 2009 12:46 PM

सार्थक रूप से ब्लोगिंग का मतलब ही यही हैं की हम अपने विचारों का आदान प्रदान करे पर बिना भाषा पर संतुलन खोये । कमेन्ट नाम से हो या अनाम कोई फरक नहीं पड़ता अगर विचार स्पष्ट हो ।

नारी ब्लॉग पर ही नहीं और भी ब्लोग्स पर जिन पर नारी - पुरूष समानता को लेकर विमर्श होता हैं मैने निरंतर इस बात को कहा हैं की नारी को " संरक्षण और समानता की बात एक साथ नहीं करनी चाहिये । अगर नारी पुरूष से संरक्षण चाहती हैं तो उसको पुरूष से समानता की बात नहीं करनी चाहिये । समानता तभी सम्भव हैं जब हम जितना लेते हैं उतना देने की क्षमता रखते हो । बार बार इतिहास को दोहराने से कोई लाभ नहीं होता हैं क्युकी हर वर्तमान की अपनी समस्याए होती हैं ,उन समस्याओं का अपना निदान होता हैं ।

मंगलोर प्रकरण मे समानता से ज्यादा बात थी की क्यूँ नारी हमारे समाज मे सुरक्षित नहीं हैं । क्यों नारी पर प्रतिबन्ध हैं । क्यूँ पुरूष समुदाय गुंडा गर्दी करता हैं नारी शरीर को हथियार बना कर । मंगलोर प्रकरण मे जितना भी अभी तक पढा हैं उसमे जो प्रत्यक्षदर्शी हैं उनके बयान कहते हैं की पब मे जो लडकियां थी उनको ना केवल मारा पीटा गया अपितु उनके कपड़ो के साथ खीचा तानी की गयी यानी खुले आम "मोलेस्टेशन" । नारी को ये बताना की उसकी जगह कहा हैं ।

इस बात को कई बार उठाया गया हैं की अगर आप चाहते हैं की आने वाले समय मे लडकियां वो सब ना करे जो आप को ग़लत लगता हैं तो आप को लड़को को अनुशाषित करना होगा । आप सब ख़ुद इस बात को मानते हैं की लड़किया , लड़का बनाने की कोशिश या होड़ मे ये सब करती हैं तो फिर पुरूष समुदाय और वो स्त्री समुदाय जो इस बात को सही मानता हैं क्यूँ नहीं अपने लड़को पर पाबंदी लगता हैं शराब , सिगरेट और हर उस काम को करने के लिये जिसको करने के लिये वो अपनी लड़कियों को माना करता हैं ।

नारी पुरुष मे वैचारिक मतभेद बहुत बार होता हैं , होगा भी क्योकि दोनों को जीने के आयाम अलग अलग मिले हैं । लेकिन जब भी ये मतभेद होता हेँ तो कभी भी नारी किसी पुरुष के शरीर , वस्त्रों इत्यादी पर ऊँगली नहीं उठाती । विचारो की लड़ाई मे नारी शरीर / परिधान का इतना महत्व पुरुष समुदाय के लिये क्यो हो जाता हैं ?? बलात्कार के लिये क्यों हमेशा आतुर हैं पुरूष ? क्या बलात्कार केवल शरीर का होता हैं ? पाशविक मनोवृति हैं क्या पुरूष की आज भी ? तब तो शायद जो हमारी दादी / नानी यानी सन ६० के दशक मे ६० वर्षीया स्त्रियाँ कहती थी की बेटी पिता से भी दूरी बनाओ सही था । यानी हम आज भी जो ख़ुद दादी नानी बनने की उम्र मे हैं इस लिये खामोश रहे क्योकि हम नारी हैं , महिला हैं और आप गली मे टहलते पशु हैं जो घात लगा कर कभी भी हम को अनावरत कर सकते हैं । सो आप करते रहे ये सब क्योकि ये आप की मानसिकता हैं और हम भी आप सब के खिलाफ आवाज बुलंद करते रहेगे इसलिये नहीं की हम को आप से कोई दुश्मनी हैं बल्कि इसलिये की एक महिला होने के नाते हम आप की बेटी लिये भी समाज मे उतनी ही सुरक्षा चाहते हैं जितनी अपनी बेटी की और हम आप के बेटो के लिये भी एक ऐसा साफ सुथरा समाज चाहते हैं जहाँ उनको हमेशा कटघरे मे ना खडे होना पडे । आज जो पुरूष वर्ग महिला चरित्र हनन कर रहा हैं वह अपने बेटो के लिये खाई खोद रहा हैं । कभी सोच कर देखे आने वाले समय मे आप के बेटो को क्या क्या सुनना पड़ सकता हैं आप की इस मानसिकता की वजह से ।

अगर आप को लगता हैं की स्त्री या नारी चोखेर बाली { यानी आँख की किरकिरी } इस लिये बनती हैं क्युकी वो पुरूष के ग़लत आचरण का अनुसरण करती हैं तो पुरूष के ग़लत आचरण को रोकिये । उस पर प्रतिबन्ध लगाईये , उस पर आक्रोश व्यक्त कीजिये , उसको सजा दीजिये । अगर आप ये मानते हैं की पुरूष एक पेदेस्तल पर खड़ा हैं { मै ये नहीं मानती हूँ व्यक्तिगत रूप से } और नारी उसको देख कर उसके जैसा बनना चाहती हैंताकि वो पुरूष की तरह एक उंचा स्थान पा सके तो पुरूष को अपना आचरण सही करना होगा । भारतीये संस्कृति नारी के आचरण मे सुधार से नहीं पुरूष के ग़लत आचरण पर प्रतिबन्ध से बच सकती हैं ।

अगर पब संस्कृति का विरोध करना हैं तो सरकार का विरोध करे जो इनको लाइसेंस देती हैं । अगर शराब और सिगरेट का विरोध करना हैं तो फिर उस सरकार का विरोध करे जो इसको बढ़ावा देती हैं । घर मे कोई सिगरेट या शराब ना ले चाहे स्त्री , चाहे पुरूष , चाहे अभिभावक , चाहे बच्चे । अगर "western outfit" का विरोध करना हैं तो पुरूष भी ऑफिस कुर्ते पाजामे या धोती मे जाए और महिला भी साड़ी या सूट मे जाए यानी एक नेशनल ड्रेस कोड बनाया जाए ।

सभ्यता या संस्कृति गुंडागर्दी से ना तो बनेगी और ना बचेगी हाँ जितनी जितनी गुंडा गर्दी पुरूष स्त्री पर करेगा उतना उतना स्त्री समाज को गुलाबी गैंग बनाने पर मजबूर करेगा । समय दूर नहीं हैं जब लडकियां हथियारों से लेस हो कर वो सब करेगी जो आज पुरूष कर रहे हैं , हर जगह व्यवस्था बिगडेगी ।
संस्कृति तो आप क्या बचायेगे हाँ कुछ फूलन देवियाँ और समाज मे जरुर दे जायेगे ।

और अंत मे एक बात उस अनाम ब्लॉगर से जो निरंतर इस ब्लॉग पर कमेन्ट मे अपशब्द दे रहे हैं और मै उसको डिलीट कर रही हूँ । आप अपना समय व्यर्थ कर रहे हैं , क्यों नहीं आप खुल कर अपने ब्लॉग पर कुछ भी लिखते हैं आप को लगता हैं नारी उत्पात मचा रही हैं तो आप अपने ब्लॉग पर उस बात को खुल कर लिखे ताकि विमर्श हो।
इसके अलावा विवेक निरंतर हर पोस्ट पर साधू साधू लिखते हैं , वो कमेन्ट भी डिलीट करना पड़ता हैं क्युकी अगर आप विमर्श नहीं करना चाहते हैं तो कोई बात नहीं पर जो कर रहे हैं उनके विचारों मे व्यवधान ना डाले ।

मै अपने दोनों अनाम टिप्पणी देने वालो की आभारी हूँ क्यूँ हर कमेन्ट से मै अपनी सोच मे इजाफा कर पाती हूँ ।

6 comments:

  1. मेरे विचार से हर किसी कि अपनी निजी जिन्दगी है जिसे जीने का उसे पूरा हक़ है.. और अगर किसी दूसरे के जीवन में व्यवधान डाले बिना और बिना कानून तोडे वह पब में जाता है या सिगरेट शराब पीता है या लिव-इन-रिलेशन में जीता है तो इसमें कुछ भी गलत नहीं है.. चाहे वह पुरुष हो या महिला..

    ReplyDelete
  2. आपने बहुत बढिया पोस्ट लिखी. ये पोस्ट काफ़ी कुछ निष्कर्ष के तौर पर ली जा सकती है.
    मैं पीडी जी की बात से सहमत हूं कि कोई अपनी व्यक्तिगत जिंदगी में क्या करता है इससे किसी को
    कोई फ़र्क नही पड़ना चाहिये जब तक वो कानून ना तोड़े या किसी अन्य व्यक्ति की स्वतंत्रता में अड़चन ना डाले.

    ReplyDelete
  3. एक वयस्क दूसरों की स्वतन्त्रता में दख़ल दिये बग़ैर अपना जीवन किसी भी तरह व्यतीत करने के लिये स्वतन्त्र है। उसका खान-पान, पहनावा, रहन-सहन उसके नितान्त निजी मामले हैं जिनमें दख़ल देने का अधिकार किसी को नहीं है। अब रही बात आपके शीर्षक की तो क्षमायाचना के साथ कहना चाहूंगा कि मानवीय सम्बन्ध दुकान की तराज़ू पर नहीं तौले जा सकते। बच्चों के प्रति बड़ों का स्नेह और संरक्षण, बुज़ुर्गों के प्रति आदर और संरक्षण मानवीय सभ्यता के मापदण्डों मे शामिल हो चुके हैं। महिलाओं को प्राप्त(जितने भी हैं)संरक्षण भी इन्हीं का हिस्सा हैं। इन्हें अतिसंकीर्ण,यान्त्रिक नज़रिये से नहीं देखना चाहिये।
    फ़िलहाल तो आवश्यकता इन्हें और अधिक सशक्त और प्रभावी करने की है।

    ReplyDelete
  4. Dr. Amar Jyoti
    बच्चों के प्रति बड़ों का स्नेह और संरक्षण, बुज़ुर्गों के प्रति आदर और संरक्षण मानवीय सभ्यता के मापदण्डों मे शामिल हो चुके हैं।
    maapdand yaani ki lena aur dena agar maa pita aap kae liyae aap ki jarurat par kartey haen to ek paripakv aayu kae baad aap kaa kartavy haen maa pita kae liyae karna par kitney kartey haen ??

    maa pita bachho ko hamaesha bachha banaayae rakhtey haen aur baachey bhi kabhie adult nahin bantey

    yaani zimmedaari kaa koi batwaara hii nahin hota kewal adhikaar ki baat hotee hae

    ReplyDelete
  5. सबसे पहले तो मैं उन महोदय से कहना चाहता हूँ की ब्लॉग पर दूकान नहीं चलती...
    दुसरा आपसे की उस कमेन्ट में कोन सा प्रशन आपको ऐसा लगा जिसे आज के समय मे उठाना बहुत जरुरी हैं ।
    सब बकवास है... अगर बेनाम जी को अपने तर्क सच लगते तो वो "बेनाम" नहीं होते...
    यही बेनाम लोग ही जड़ हैं समस्या की...

    नारी सम्मान और समानता इन्हें किताबों में भी अच्छी नहीं लगती...

    ReplyDelete
  6. नारी सम्मान और समानता इन्हें किताबों में भी अच्छी नहीं लगती...
    wright....

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts