नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

October 20, 2013

क्या हम वाकई उनकी मद्दत करते हैं ?? या केवल अपने अहम की तुष्टि और एक अच्छा बिजनेस

 ओपन मार्केट में जिस सामान की कीमत महज १५ रूपए थी उसको घर में काम करने वालो को  ज्यादा दाम में बेच दिया और इसको दान कहा ???ये तो महज बिज़नस हैं और कुछ नहीं बस फर्क ये हैं की खरीदार घर में ही काम करता हैं गीता में बताये किसी भी दान में ये नहीं आता हैं और पात्र सुपात्र इत्यादि की बात करना ही यहाँ बेकार हैं सीधा सीधा फायदा का सौदा हैं उनका जिनका सामान हैं पैसा भी मिला और अहम की तुष्टि भी

आप ऊपर का लिंक क्लिक करके उस पोस्ट पर जा सकते हैं जहां ये कमेन्ट मैने दिया हैं

मुझे सच में जानना हैं की अपने घर की पुरानी वस्तु अपने घर में काम करने वालो को देना या उनको इन वस्तु को बेचना क्या दान की परिभाषा में आता हैं

क्या हम वाकई उनकी मद्दत करते हैं ?? या केवल अपने अहम की तुष्टि और एक अच्छा बिजनेस


8 comments:

  1. पता नहीं विषय से संबद्ध है या नहीं लेकिन ’दान’ शब्द से मुझे नचिकेता की कहानी ध्यान आ गई, एक लिंक भी मिला है। पढ़ देखियेगा -
    http://hi.brajdiscovery.org/index.php?title=%E0%A4%A8%E0%A4%9A%E0%A4%BF%E0%A4%95%E0%A5%87%E0%A4%A4%E0%A4%BE_%E0%A4%95%E0%A5%80_%E0%A4%95%E0%A4%B9%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A5%80

    ReplyDelete
  2. अपना पुराना सामान देकर (बेचने की बात तो पहली बार सुनी ...न मैंने न मेरे आस-पास के लोगों ने आजतक कामवालियों को पुराना सामान पैसे लेकर दिए हैं ,टी.वी., फ्रिज़, वाशिंग मशीन जैसे चीज़ भी ) न तो किसी अहम् की तुष्टि होती है, न ही दान करने या मदद करने जैसा कोई भाव होता है . आपका पुराना सामान सही हालत में है, आपको नया खरीदने की इच्छा है और एक्सचेंज में कम्पनी वाले इतना कम पैसे देते हैं कि लगता है ,इस से अच्छा तो ये है कि मुफ्त में किसी को दे दी जाए जो इसका उपयोग कर सके.
    इसमें दान ,मदद या अहम् तुष्टि जैसी कोई भावना नहीं होती.

    ReplyDelete
  3. आपके ब्लॉग पर दिए गए लिंक पर पहुंचकर पोस्ट और बहस को पढ़ा। वहां हम यह कह आए हैं-
    ‘पहले व्यापार भी एक सेवा थी। अलग अलग इलाक़ों में पैदा होने वाली उपज को व्यापारी जन-जन तक पहुंचाने का काम करते थे। अब सेवा भी व्यापार बन गई है।
    पहले मालिक दाता होता था। वह अपने सेवकों को कुछ देता था तो बदले में कुछ लेता नहीं था लेकिन अब लेने लगा है। ज़माना बदल गया है लेकिन शब्द आज भी पुराने ही चल रहे हैं।
    दान भी एक पुराना शब्द है, जिसका पुराना अर्थ अब कम लोगों के जीवन में है।
    पुराना सामान फेंकने से अच्छा है कि उसे किसी को दे दिया जाए और मुफ़्त में देने से अच्छा है कि बदले में कुछ ले लिया जाए। जो ज़्यादा दयालु होते हैं वे लोग सामान देकर पैसे सेवक की सैलरी में से काटते रहते हैं। हां, बचा हुआ खाना और पहने हुए कपड़े ये लोग मुफ़्त भी दे देते हैं। ऐसा हमने देखा है।
    बेशक शहरों में ग़रीब भी गांव के अमीर जैसे रूतबे से रहता है लेकिन भारत में भयानक ग़रीबी मौजूद है। आजकल बुंदेलखंड में लोग जंगली चारे ‘पसई’ का चावल खाकर ज़िन्दा हैं। मध्य प्रदेश के भूखे देखकर राहुल गांधी को अफ़्रीक़ा याद आ गया।
    गीता के काल से सुपात्र को दान देने की परंपरा है लेकिन भूखे की भूख और ग़रीब की ग़रीबी आज तक ख़त्म क्यों नहीं हुई?
    हमें इस पर विचार करने की भी ज़रूरत है। दान की लुप्त हो चुकी प्राचीन रीति को उसके वास्तविक भाव के साथ ज़िन्दा करना हमारी प्राथमिकताओं में से होना चाहिए।
    जिसने जितना ज़्यादा समेट रखा है। उसकी ज़िम्मेदारी उतनी ही ज़्यादा है।’

    ReplyDelete
  4. मध्यवर्गीय चितन की एक झलक बहुत सारे ब्लोगों पे देखने को मिल जाती है. भारत की गरीबी और गरीब लोग शहरी मध्यवर्गीय लोगों को कई तरह के सुख देने का काम कर रहे हैं - घरेलु काम और बच्चा सँभालने से लेकर दान पुण्य का अवसर भी प्रदान कर रहे हैं. बीच बीच में भंडारा वगैरह कर के स्वर्ग में अपना स्थान पक्का कर रहे हैं और ये गरीब लोग इन दान में मिली वस्तुओं से अपना जीवन किसी सेठानी(?) की तरह ठाठ से बिता रहे हैं.. और अपने पैसे से गाँव में जमीन खरीद रहे हैं. ...कोई बता रहा है की कामवालियों 16 हज़ार तक की आमदनी कर रही हैं ..कोई बता रहा है की कामवालियों को मुफ्त में सामान देकर उनकी आदत बिगाड़ रहे हैं या सामान की क़द्र कम हो रही है ..डॉ. अनवर जमाल जी ने पूछा है की गरीबी और भुखमरी इतने सारे दानी और दाता के होते हुए ख़त्म क्यों नही हो रही है - अमां अगर गरीबी ख़त्म हो जाए तो घरों में काम करने को नौकरानियां कहाँ से आएगी और आपको नवाब होने का सुखद अनुभूति कैसे होगा और फिर दान-वान करके आप पुण्य कैसे कमाएंगे? अगर कामवालियां/ गुलाम/ गरीब न हो तो आर्थिक रूप से स्वतंत्र प्रगतिशील महिलाए बेकार से घरेलु कामो में जकड के ना रह जाए ????? भारत में दुनिया के सबसे ज्यादा गुलाम पाए जाते हैं ये तो हमारे तरक्की और समृधि की निशानी है की हम इतने सारे गुलाम और बेगार को मैनेज कर रहे हैं.

    ReplyDelete
  5. इस पोस्ट में मुझे कहीं भी पैसे लेकर सामान दिए जाने जैसा कुछ दिखा नहीं । बस पुराना सामान (जो एक्सचेंज में पैसे कम करा कर दिया जा सकता था ) काम वाली आदि को इस्तेमाल में देने की बात मिली - जो काफी अच्छा लगा । यह बिजनेस तो किसी दृष्टि से नहीं लगता ।

    सुपात्र कुपात्र आदि तो अपने विवेक से ही समझना होता है ।

    ReplyDelete
  6. शिल्पा
    पोस्ट में क्या हैं और क्या नहीं इसका फैसला हर पाठक अलग अलग करता हैं , ब्लॉग पर पाठक को प्रश्न करता हैं और फिर उत्तर स्पष्ट करता हैं की जो पोस्ट में उसको दिखा वो था की नहीं ,
    आप अगर इस पोस्ट पर प्रश्न का उत्तर पढ़ेगी तो आप को दिखेगा की उसमे कहा गया हैं

    http://tsdaral.blogspot.com/2013/10/blog-post_18.html?showComment=1382164861640#c6936546405422390020
    "हमने भी यह नहीं कहा कि सारा सामान मुफ्त मे दे दिया" tarif daral

    ReplyDelete
    Replies
    1. oh - yah kah rahi thin aap - maine nahi dekha tha ....

      vaise main bhi aksar puraana saamaan baaiyon ko deti hoon. chhoti moti cheezen aise hi lekin puraane tv aadi type ki cheez ho to nominal paise zaroor leti hoon - yah daan nahi hota , yah kya hai yah to main define nahi kar sakti lekin daan to bilkul nahi ... shayad recycling jaisa kuchh..

      Delete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts