नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

January 28, 2011

सावधान !


This is a true story of a lady at Mumbai.

A woman at a Gas nightclub (Mumbai) on Saturday night was taken by 5 men, who according to hospital and police reports, gang raped her before dumping her at Bandstand Mumbai. Unable to remember the events of the evening, tests later confirmed the repeat rapes along with traces of rohypnol in her blood.

Rohypnol, date rape drug is an essentially a small sterilization pill. The drug is now being used by rapists at parties to rape AND sterilize their victims. All they have to do is drop it into the girl's drink. The girl can't remember a thing the next morning, of all that had taken place the night before. Rohypnol, which dissolves in drinks just as easily, is such that the victim doesn't conceive from the rape and the rapist needn't worry about having a paternity test identifying him months later.

The Drug's affects ARE NOT TEMPORARY - they are PERMANENT. Any female that takes it WILL NEVER BE ABLE TO CONCEIVE. The weasels can get this drug from anyone who is in the vet school or any university, it's that easy, and Rohypnol is about to break out big on campuses everywhere.

Believe it or not, there are even sites on the Internet telling people how to use it. Please forward this to everyone you know, especially girls. Girls, be careful when you're out and don't leave your drink unattended.

(Added - Buy your own drinks, ensure bottles or cans received are Unopened or sealed; don't even taste someone else's drink)

There was already been a report in Singapore of girls drink been Spiked by Rohypnol.

 Please make the effort to forward this to everyone you know.

 For guys - Please inform all your female friends and relatives.

 "Your life is God's gift to you. What you do for others is your gift to God" I had been forwarded this mail you SHOULD do the same.


                       ये एक मेल मेरे पास आई थी, दुनियाँ बहुत सारे लोग हैं और उतनी ही तरह के हैं लेकिन आज के समय में सकारात्मक सोच के उदारहण अगर १० मिल जायेंगे तो नकारात्मक और विध्वंशात्मक तरीके के उससे कई गुण ज्यादा. हमारी सोच अब शायद एक स्थान पर आकर रुक गयी है. 
इसको नारी पर डालने का उद्देश्य सिर्फ और सिर्फ एक ही है कि हम पढ़े और पढ़कर अपने परिचितों को बस इस बारे में जागरूक कर दें. कौन कब किस रूप में हमारा और हमारे शुभचिंतकों का बुरा सोच कर बैठा हो ये नहीं बताया जा सकता है क्योंकि आज कल होने वाली घटनाओं में न रिश्तों कि कोई गरिमा रह गयी है और न ही विश्वास तोड़ने कि कोई हद. 





16 comments:

  1. आदरणीय रेखा श्रीवास्तवजी
    आपने एक दम सही कहा है अब न तो रिश्तों कि कोई गरिमा रह है और न ही विश्वास तोड़ने कि कोई हद.

    ReplyDelete
  2. मैं नहीं मानता.इस तरह की बातें महज़ सनसनी के लिये फैलाई जाती हैं.लडकियाँ पहले से ही असुरक्षित वातावरण में जी रही हैं.वे सुरक्षा को लेकर पहले ही सतर्क रहती हैं.घर घर में यह सीख उन्हें पहले ही दी जाती हैं.यदि हम इस तरह की निराधार बातों को तूल देते रहे तो उनमें असुरक्षाबोध बढेगा न कि आत्मविश्वास.

    ReplyDelete
  3. Rather than going into morality issues, a girl should always follow some simple common sense guidelines where ever alcohol and big groups are involved.

    1) Never leave your drink/even soft drinks unattended.

    2) Never accept drinks from strangers. Period.

    3) If in doubt, always walk with the person to the bartender/server and make sure you accept your beverage from him/her directly.

    4) If going out in a big group. MAKE SURE there are other girls accompanying you.

    5) Never accept a ride back from from some stranger. In this case more harm is done by someone you barely know. Always have a trusted companion drop you home and accompany you in a taxi.

    6) Believe in designated drivers. In a group there must be someone who is not drinking that night and can take care of any situation.

    ReplyDelete
  4. Expected better judgement from Nari in posting information.

    This is a hoax in circulation around the world since 1999s. http://www.pagalguy.com/forum/chit-chat-your-interests/16467-rohypnol-please-read-it.html

    It is true Rohypnol (Flunitrazepam) is psychotropic and muscle relaxant often used to facilitate sexual assaults by imparing victim's cognition. But it has no sterility properties.

    Exteremely high doses of progestrone can prevent conception and fertility can be restored once progestrone levels return to normal levels.

    http://www.wright.edu/students/studsupport/drug%20free%20brochure%20pdf.pdf

    It is important to be informed and vigilant of one's surroundings and comany but adding to rumor mill is futile excercise, it compromises the sincerity of this blog.

    Peace,
    Desi Girl

    ReplyDelete
  5. Rohypnol (Flunitrazepam)in it self does not cause sterility. Oral adminstration of progestrone in very high doses is doubtful and requires regular exposure not just one dose.

    Peace,
    Desi Girl

    ReplyDelete
  6. Half of my comment vanished??

    Expected better judgement from Nari in posting material.To be informed is good but to add to rumor mill makes the reliability of this forum.

    This rumaor has been in circulation since 1999 around the world. In India it started in 2006. http://www.pagalguy.com/forum/chit-chat-your-interests/16467-rohypnol-please-read-it.html

    It is true Rohypnol (Flunitrazepam)is used to facilitate sexual assault by impairing victims' cognition. It is a psychorotic formulation with extereme muscular relaxant properties but in it self does not cause sterility.

    Permanent sterility can only be casued by snipping or scarring of fallopian tubes or chronic hormonal imbalance.
    High levels of progestrone are adminsted to create temporary sterility in animalsbut it reverses on halting the doasage.
    Oral adminstration of progestrone in very high doses is doubtful and requires regular exposure not just one dose.

    It is important to be informed and alert of one's surroundings and company but it is dysfunctional to add to panic. Learn more:
    http://www.wright.edu/students/studsupport/drug%20free%20brochure%20pdf.pdf

    Peace,
    Desi Girl

    ReplyDelete
  7. thanks 4 posting...good effort

    also u desi girl...

    ReplyDelete
  8. thanks 4 posting...good effort

    also u desi girl...

    ReplyDelete
  9. @desigirl

    When I checked spam folder on dashboard i found 2 of your comments in spam {automatic filtration by google } have published them now .

    As regards the post I leave it to the judgment of the author. Many a times rumors circulate because they do have some or little reality behind them . above all we want woman to understand what all is happening even if its rumor .

    all those who might have made a opinion after the post might rethink after your comment

    and

    @neeraj
    I appreciate

    ReplyDelete
  10. इसमें दी गयी घटना अफवाह हो सकती है , ये मैं निश्चित तौर पर नहीं कह सकती लेकिन उसमें दिए गए दिशा निर्देश किसी भी लड़की के अनुचित नहीं है. इस रूप या दवा के रूप में न सही (वैसे मुझे चिकित्सा विज्ञान का अधिक ज्ञान नहीं है.) , ड्रिंक में नशीली पदार्थ डाल कर लड़कियों के साथ घटित होने वाली घटनाएँ कम नहीं है. इसलिए पोस्ट का समुचित रूप से प्रकाशन उचित ही है.

    ReplyDelete
  11. Please hit this link to know how old this rumor is in India. These chain emails are sophisticated rumor mills an iota of truth is hyperboled into panic creation and misinformation.
    http://www.pagalguy.com/forum/chit-chat-your-interests/16467-rohypnol-please-read-it.html


    About the authenticity of any information, just google the few key words or an exact sentence and everything will pop up.

    Yes, the question is to be informed and alert of one's surroundings and company then why not make a post like Neeraj Rohila pointed in his/her comment.

    There is nothing to be deffensive about, it is about building credibility of this forum.

    Peace,
    Desi Girl

    ReplyDelete
  12. नाम के अनुरूप ब्लॉग .... अति सुन्दर .बधाई ..ह्रदय ग्राही ...विचारणीय ....सुन्दर पोस्ट ..शुभकामना

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts