नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

May 14, 2009

समाज मे सारे हक़ बेटो को ही क्यूँ दिये जाते हैं ? बेटी दामाद जो कर्तव्य निभाते हैं उनके सामाजिक हको का क्या ??

कल पता चला की घर से कुछ दूर रहने वाली वृद्ध नानी नहीं रही । १५ दिन पहले ही उनका स्वर्गवास होगया । और आस पड़ोस मे किसी को पता नहीं चला ।
वृद्ध नानी को मै १९८० से उनके बेटी दमाद के साथ रहते देखती आयी थी । उनके साथ उनकी अविवाहित पुत्री भी रहती थी जो उस समय ३० वर्ष की होगी ।
वृद्ध नानी के बेटा और बहु भी हमारी कोलोनी मै ही रहते हैं पर उन्होने कभी भी अपनी माँ या अविवाहित बहिन को अपने साथ नहीं रखा और उनके घर के आपसी सम्बन्ध भी केवल और केवल बोलचाल तक रह गये थे ।
दामाद ऊँची पोस्ट पर इंजिनियर थे और आज कल रिटायर हो कर रह रहे थे ।
वृद्ध नानी को पैदल घुमती देखा , फिर धीरे धीरे शिथिल होते और विहल चेयर पर देखा और पीच्लाए कुछ वर्षो से वो बिस्तर पर ही थी ।
कल माँ को किसी नए बताया की जिस समय उनकी मृत्यु की सुचना उनके बेटे को दी गयी वो तुंरत कार से आये और मृत माँ को विहल चेयर पर बिठाया और उस वील चेयर को अपनी कर मै रख कर अपने घर ले गए । और वहाँ से सुबह उनको दाह संस्कार के लिये ले जाया गया ।
दामाद और बेटी के घर से उनको संस्कार के लिये नहीं भेजा क्युकी समाजिक प्रतिष्ठा याद आगई और रिश्ते के लोगो ने भी उनका ही साथ दिया और बेटी दामाद को कहा की ये तो बेटे का "हक़" हैं ।
उनके इस रवाये से हम जैसे लोग जो वृद्ध नानी को अन्तिम समय मै विदाई दे सकते थे वो भी नहीं दे सके । और उस घर मै जहाँ उन्होने अपनी जिंदगी अपने बेटी दामाद के साथ बिताई वहां एक शान्ति पाठ भी नहीं किया जा सकता ।

समाज मे सारे हक़ बेटो को ही क्यूँ दिये जाते हैं ? बेटी दामाद जो कर्तव्य निभाते हैं उनके सामाजिक हको का क्या ?? कब तक हम ये दोहरी सामजिक रीतियों मे अपनी जिंदगी गुज़रते रहेगे ।

वृद्ध नानी इश्वर आपकी आत्मा को शान्ति दे और मै कामना करती हूँ की आप अगले जन्म मे अगर बेटी बन कर आए तो किसी बेटे को जन्म ना दे ।

13 comments:

  1. सामाजिक (कु)रीतियां अगर हम बदलना भी चाहें तो समाज अपने ओछेपन को धर्म का चोला पहनकर आड़े आ जाता है। क्यों कोई बेटी अपने पिता को अग्नि नहीं देती? क्या वो उसका अंश नहीं है? ऐसे कई सवाल हैं जिनके जवाब देने में समाज को अपने मुहँ में कुनैन सरीखे लगते हैं।

    समाज को बदलना होगा लेकिन पहले अपनी सोच को बदलना है।

    कमलेश मदान

    ReplyDelete
  2. कोई बदलाव नहीं चाहता... और पहल नहीं करना चाहता... और दुसरी और समाज बदलाव को स्वीकारने में हिचकिचाहट दिखाता है... कहीं तो शुरुआत करनी होगी..

    ReplyDelete
  3. बदलाव तो हो रहे हैं लेकिन बहुत छोटे स्तर और धीमी गति से… महाराष्ट्र में महिलाओं ने (फ़िलहाल इकलौती बेटियों ने) मुखाग्नि देना शुरु कर दिया है, तथा पुजारियों के पारम्परिक धार्मिक अनुष्ठान आदि करवाना भी प्रारम्भ कर दिया है, लेकिन इसे और भी बढ़ाने की आवश्यकता है, यह जनजागरण से ही सम्भव होगा… कोई भी सकारात्मक बदलाव धीरे-धीरे आता है, जबकि नकारात्मक बदलाव तेजी से आता है…

    ReplyDelete
  4. मेरा मानना है की इसमें हमें सामाज की ओर से किसी ओपचारिक घोषणा का इंतज़ार नहीं करना चाहिए ...मैंने बहुत सारे घरो में इस बदलाव को देखा है ओर देख रहा हूँ....यहाँ निजी व्यक्तिगत सोच को बदलने की जरुरत है ....ओर जिन परिवारों ने बदली है वहां यही है....शायद अगले कुछ सालो में ओर बदलाव देखने को मिले....

    ReplyDelete
  5. रचना जी, आपने बेटी-दामाद के हक की बात की तो हमें वह बात याद आ गई जब हमारे ससुरजी का निधन हुआ था। हमें सूचना पहले मिली तो हम गांव पहले पहुंच गए। वहां जाकर मालूम हुआ कि उनका बेटा यानी हारी साला तो पहुंचा ही नहीं है। ऐसे में गांव वालों ने यह तय किया कि अगर बेटा सुबह तक नहीं आता है तो हमें मुखाग्नि देनी होगी। गांव वालों का ऐसा कहना था कि दामाद भी बेटा होता है। हमें गांव वालों की उस सोच पर गर्व हुआ। लेकिन अफसोस कि हमें अपने ससुर को मुखाग्नि देने का मौका नहीं मिला क्योंकि हमारे साले साहब सुबह तक आ गए थे। जब एक गांव में कुछ साल पहले गांव वालों की सोच इतनी अच्छी हो सकती है तो समाज में बदलाव क्यों नहीं आ सकता है। बस जरूरत है एक अलख जगाने की।

    ReplyDelete
  6. पुरुष प्रधानता को नष्ट करना होगा।

    ReplyDelete
  7. samaj me bdlav ana jruri hai jb vrdha nani apne beti damad ke pas rhi to ve hi unke antim sanskar ke adhikari hai samj sarta hai ase kam me koun pahl kre beti damad agr drdhta se apni bat par rhte to koi unhe rok nhi sakta tha aur dheere dheere ye prmpra bn jati .ham kyo dusro ka intjar krte hai?phal to hme hi krni hogi .samaj bhi hmse hi bana hai .

    ReplyDelete
  8. आपने जितनी शिद्दत से यह महसूस किया अगर उनकी बेटी और दामाद ने भी किया होत तो नानी जहाँ अपने अंतिम दिन गुजार रही थी वहीं से अंतिम विदाई लेती!
    बेटे ने तो इल्लत काटी समाज में मुँह धो लिया। पर बेटी ने प्रतिकार क्यों नहीं किया कि ज़िंदा तो बेटी के घर थी मरते ही बेटे के घर क्यों? उसे अपने घर से ही विदा करना था, अड़ जाना था। अपनी ज़िम्मेदारी मानना था।

    हमारी बहिन के श्वसुर की मृत्यु पर उनके तीनों बेटों के साथ दामाद ने भी उतना ही फ़र्ज़ निभाया जितना बेटों ने-’मैं उनका चौथा बेटा था।’ जबकि बेटे बहुत लायक और सेवा करने वाले थे। चारों की ज़बरदस्त अंडरस्टेंडिंग है।
    यहाँ बेटी और दामाद को पहल करके नानी का संस्कार करना था।

    ReplyDelete
  9. प्रेमलताजी से पूरी तरह से सहमत...बेटी को अड़ जाना था..समाज को जवाबदेही के लिए कटघरे मे खड़ा कर देती कि वह सेवा कर सकती है तो अंतिम दाह सँस्कार क्यों नही... ! मेरी छोटी बहन को शमशानघाट जाने से रोका गया था लेकिन अपनी ज़िद के कारण वह भी डैडी को अंतिम विदाई देने गई.
    स्त्री के किसी भी रूप मे आगे आकर समाज की मानसिकता को बदलने के लिए पहल भी हमे ही करनी होगी... ....

    ReplyDelete
  10. मेरा भी मानना है की हमें व्यक्तिगत तौर पर ही आगे आना होगा... बजाय इसके की हम किसी आन्दोलन या जाग्रति का इंतज़ार करें. नानी जी की बेटी को ही अड़ जाना था.

    ReplyDelete
  11. जरूरी है कि ये बात समझी जाए। ये बेटा-बेटी अलग नजर से देखना खुद से ही खत्म करना होगा

    ReplyDelete
  12. परिवर्तन आ रहा है ...थोडा और इंतज़ार करना होगा ...

    ReplyDelete
  13. रचना जी, आपने बेटी-दामाद के हक की बात की तो हमें वह बात याद आ गई जब हमारे ससुरजी का निधन हुआ था। हमें सूचना पहले मिली तो हम गांव पहले पहुंच गए। वहां जाकर मालूम हुआ कि उनका बेटा यानी हारी साला तो पहुंचा ही नहीं है। ऐसे में गांव वालों ने यह तय किया कि अगर बेटा सुबह तक नहीं आता है तो हमें मुखाग्नि देनी होगी। गांव वालों का ऐसा कहना था कि दामाद भी बेटा होता है। हमें गांव वालों की उस सोच पर गर्व हुआ।

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts