नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

February 24, 2014

तलाक लेने और देने से पहले आर्थिक रूप से सक्षम महिलाये ध्यान दे

तलाक लेने और देने से पहले आर्थिक  रूप से सक्षम महिलाये ध्यान दे



मुम्बई हाई कोर्ट ने एक अहम फैसले में कहा हैं कि जिन पत्नियों के पास परमानेंट इनकम हैं यानि आप कि बचत इत्यादि से  इनकम होती हैं या अगर आप को कहीं से यानि आप के बच्चे इत्यादि से परमानेंट पैसा मिलता हैं तो आप को अपने पति से तलाक के बाद मैंटीनैंस मांगने का कोई हक़ नहीं हैं।  कोर्ट के अनुसार ये कानून पुराना हैं और मान्य हैं।

जो लोग इस विषय पर ज्यादा जानना चाहते हैं वो यहाँ पढ़ सकते हैं
लिंक
MUMBAI: Only a wife with no sufficient source of permanent income can claim maintenance from her husband, the Bombay high court has ruled. A division bench of Justice Vijaya Kapse-Tahilramani and Justice P N Deshmukh rejected an application by an Andheri resident, Sheela Sharma (61), who had sought Rs 15,000 as monthly maintenance from her husband, Nitin Sharma, who is based in Australia. 

"It is a well-settled law that only a wife who has no sufficient permanent source of income can claim and get maintenance from her husband who has sufficient means," said the judges. The Sharmas have a son and daughter who are married and settled abroad. The couple has been living separately since 2007. 

The court pointed out that it had come in evidence that Sheela had invested Rs 50 lakh in fixed deposits and also made investments in mutual funds. She has also invested another Rs 2 lakh that she got from Nitin in a fixed deposit. She resides in a flat that she had bought with Nitin, who said she had exclusive possession of the house. This meant there was no rent to be paid. "It is seen that the wife is getting more than Rs 37,500 per month as interest. She has more than Rs 50 lakh in the bank. In addition, (her) son is providing money for her maintenance and other expenses. No one is dependent," said the judges. 

Nitin had moved the court for divorce on the grounds of cruelty, which was dismissed by a family court. Meanwhile, Sheela too moved the court. The family court allowed her plea and granted the couple judicial separation and asked Nitin to shell out Rs 25,000 as monthly maintenance. Nitin challenged the maintenance order and a single bench of the HC set aside the maintenance order. Following this, Sheela challenged the orders and sought Rs 15,000 as maintenance. 

(Names of the couple changed to protect identities)



3 comments:

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts