नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

May 21, 2012

एक प्रश्न हैं , उत्तर की प्रतीक्षा मे


एक प्रश्न हैं , उत्तर की प्रतीक्षा मे

क्या किसी विवाहित स्त्री या पुरुष को , जिनके बच्चे शादी योग्य हो , प्रेम करने का अधिकार होता हैं ? प्रेम भी अपने बच्चो की उम्र के पुरुष या स्त्री से . क्या उम्र में बड़े होना , एक जिम्मेदारी नहीं लाता हैं व्यक्ति के ऊपर .

हो सकता हैं आप कहे जब दूसरे पक्ष को क़ोई आपत्ति नहीं हैं तो बड़े विवाहित व्यक्ति को क्यूँ सोचना चाहिये ? मेरा प्रश्न हैं जो छोटा हैं वो उम्र में छोटा हैं , वो गलती कर सकता हैं पर क्या बड़े को उसकी गलती सुधारनी चाहिये या उसको बढ़ावा देना चाहिये ?
क्या जो विवाहित हैं वो अपने परिवार को छोड़ सकता हैं , क़ोई सेलेब्रिटी हो तो अलग बात हैं पर आम आदमी नहीं छोड़ सकता हैं . फिर वो अपने से छोटे अविवाहित व्यक्ति { स्त्री / पुरुष } को क्या दे सकता हैं ?

एक समाचार आज पढ़ा की १५ डिवोर्स के केस में कम से कम एक केस ५० साल से ऊपर की आयु के व्यक्ति का होता हैं और वो किसी भी कौन्सेलर की बात नहीं सुनते हैं और केवल सम्बन्ध विछेद चाहते हैं . क्या अगर क़ोई ५५ - ६० साल का विवाहित  व्यक्ति किसी से प्रेम करे तो ये जरुरी नहीं हैं की वो पहले अपनी पत्नी से सम्बन्ध विच्छेद कर ले और फिर अपनी जिन्दगी दुबारा शुरू करे .

नारी ब्लॉग को केवल निमंत्रित पाठको के लिये रखा जायेगा

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

9 comments:

  1. साहित्य के नज़रिये से प्रेम वर्ज्य नहीं होगा. किंतु क़ानूनी तौर पर जहां बहु विवाह को स्थान नहीं ऐसा वर्ज्य ही होगा.
    प्रेम एक भाव के साथ साथ अधिकार को भी सृजित करता है यानी प्रेम एक अधिकार भी है. जो जन्म जात है. इस कोई रोक सम्भव नहीं लगती पर सामाजिक व्यवस्थाओं के साथ छेड़छाड़ न हो साथ ही अन्य किसी के अधिकारों पर अधिक्रमण की स्थिति न हो अतएव ऐसा प्रेम वर्जित होना ही चाहिये जो एक "पति-पत्नि" का एकाधिकार है. यदि ऐसा होता है तो वो "जारता" है.

    ReplyDelete
  2. I was not aware of the statistics although such cases are heard of. I think stopping a man from divorcing may not work, so simply ensuring in such cases that the wife gets 50% of the marital property and is self reliant is an option.

    And it happens more with men wanting to marry younger women only because they can get away with it - they know they face less stigma than women might in a similar situation and they are generally able to (financially and socially) afford the consequences.

    ReplyDelete
  3. मेरे हिसाब से प्रेम करना कोई गलत बात नहीं क्यूंकि पहली बात प्रेम किया नहीं जाता हो जाता है दूसरी बात प्रेम में किसी तरह कि कोई सीमा तय नहीं होती अर्थात कोई बंदिश नहीं होती कि कब, कहाँ, किस से, कैसे प्यार होना चाहिए या किया जाना चाहिए। मगर हाँ मैं इतना ज़रूर मानती हूँ कि प्यार का असली नाम त्याग है। अपने स्वार्थ के चक्कर में अपनों कि या अपनों से जुड़े कई और लोगों कि ज़िंदगी ख़राब कर देने का हमको कोई हक नहीं।

    ReplyDelete
  4. बहुत बेहतरीन व प्रभावपूर्ण रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  5. प्रेम कभी भी किसी को किसीसे हो सकता है और यदि दोनो पक्ष सहमत हों तो विवाह भी वर्ज्य नही वहाँ उम्र मायने नही रखती क्योंकि उम्र के उस पडाव पर ही इंसान खुद को सबसे ज्यादा अकेला महसूस करता है और यदि उसका साथी उससे बिछड जाता है तो ऐसे मे यदि वो दूसरा विवाह करना चाहता है तो इसमे बुराई नही ………जहाँ तक उम्र का सवाल है तो इसमे जबरदस्ती नही होनी चाहिये किसी भी पक्ष की किसी से भी …………जहाँ तक घरवालों का सवाल है तो बच्चे जब बडे हो जाते हैं तो वो भी अपनी गृहस्थी मे रम जाते हैं फिर कौन ध्यान देता है इन अधिक उम्र के लोगों पर ऐसे मे यदि वो अपने लिये जीवनसाथी चुनते हैं तो उसमे कोई बुराई नहीं। लेकिन दूसरी के लिये पहली को छोडना गलत बात है क्योंकि वहाँ तो ये हुआ जैसे सामाजिक जिम्मेदारियो से मूंह मोड लिया और वहां देखा जाये तो वास्तविक प्रेम नही होता ………होता है तो सिर्फ़ वासना का आधिपत्य और ऐसे लोग ही लुटते भी देखे गये हैं ।

    ReplyDelete
  6. प्रेम, विवाह, विवाह-विच्छेद और न्याय व्यवस्था... इनमें कोई समानता नहीं, न भावनात्मक और ना ही व्यावहारिक.. प्रेम करना कोई ऎसी बात नहीं जिसे करने के पहले कोई योजना बनानी पड़े.. विचार करें कि किसी व्यक्ति को किसी के समक्ष बिठा दिया जाए और कहा जाए कि तुम इस पर गुस्सा करो.. आप कहेंगे पागलपन है. क्यों पागलपन है, क्योंकि गुस्सा सोचसमझकर योजनाबद्ध होकर नहीं किया जा सकता. कोई बहुत सीधा व्यक्ति आपको बुरा लग सकता है और कोई कुटिल व्यक्ति आपका मित्र हो सकता है.
    जीवन की यह विषमताएं ही जीवन को जीवन बनाती हैं. वरना किसी कुरूप स्त्री से कोई प्रेम न करता यदि सुंदरता ही प्रेम की प्रथम और एकमात्र शर्त होती.. जबकि लैला जैसी अति साधारण स्त्री का प्रेम इतिहास का असाधारण प्रेम बना. इसलिए प्रेम करने से पहले युवक-अधेड, विवाहित-अविवाहित, कारोबारी-बेरोजगार आदि का विचार में में आता ही नहीं और अगर आए तो वह प्रेम नहीं.
    विवाह योजना का भाग है, चाहे प्रेम-विवाह हो या आयोजित. और जैसा की हर योजना के साथ होता है कुछ सफल हो जाती हैं, कुछ भंग हो जाती हैं. योजना में कई एजेंसीज होती हैं जैसे पति, पत्नी, घर, ससुराल, समाज, बाल-बच्चे, नाते-रिश्तेदार. और इनमें से कोई भी कारण हो सकता है विवाह-विच्छेद का यानि योजना के विफल हो जाने का. हाँ, सफल योजना तभी संभव है जब आपसी प्रेम पैदा हो जाए. और यह नैसर्गिक प्रेम न सामीप्य से आता है, न बच्चा पैदा करने से, न प्रयास करने से. वह स्वतः उद्भूत है. और विवाह की सफलता की गारंटी. एक और रास्ता है समझौता करने का, यहाँ बाहर से सफलता दिखती है, भीतर से होती नहीं.
    विवाह-विच्छेद के जिन मामलों की चर्चा आपने की है और उनमें से वे मामले, जहां पुरुष की उम्र ५० वर्ष से अधिक बताई गयी है उनमें क्या यह तथ्य भी दिया गया है कि वे मामले कितने दिनों से कोर्ट में लंबित हैं. कई बार तो दीवानी कचहरी में आपको बहुत सारे वृद्ध दिख जायेंगे जिनकी जवानी तिरोहित हो गई अदालातों में. कहने वाले तो ये भी कहते हुए पाए जायेंगे कि बुढापा आ गया संपत्ति का मोह नहीं गया!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. उस आलेख में कहा गया है की तलाक के १५ मुकदमो में एक उनका हैं जिनकी उम्र ५० से ऊपर हैं . जहां तक समझ में आया हैं उसका अर्थ हैं की अब ५० साल के ऊपर के लोग भी तलाक ले रहे हैं जिनकी शादी को २५ साल से ऊपर हो चुके हैं . वो अब साथ नहीं रहना चाहते

      Delete
  7. मै "चला बिहारी ब्लॉगर बनने" के कथन से पूर्णतय: सहमत हूँ।

    ReplyDelete
  8. प्रेम एक बहुत ही टिपिकल चीज है, वश में हो तो करना ही नहीं चाहिए| लेकिन प्रेम करने से तो नहीं होता होगा, हाँ, जिम्मेदारियों पर असर जरूर पड़ सकता है|

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts